THE INSTOR BLOG

किराना स्टोर खोलने के लिए कितने पैसे की जरूरत होती है?

Read in English

ई-कॉमर्स वेव के बाद से पिछले बीस सालों में सुपरमार्केट और बड़ी रिटेल चेंस में काफी बढ़ौती दिखी है। हालांकि, शायद ही किराना स्टोर्स के बीच कंपटीशन, भारतीय ग्राहकों पर कोई असर डाल पाएगा । दोनो स्वदेशी और विदेशी रिटेलर्स ने बड़े प्लांस बनाए है ताकि वो अपने स्टोर्स की मदद से अपने रिटेल उपस्थिति को बढ़ा पाए और भारतीय ग्राहकों के ऊपर एक मजबूत पकड़ रख पाए। 

किराना स्टोर बिजनेस पर प्रभाव डालने वाले कुछ फैक्टर्स:

पड़ोस वाले मामूली किराना स्टोर इन सभी प्रभावों के बाद भी असाधारण रूप से टिकाऊ साबित हुए है। यह न केवल बड़े फॉर्मेट की रिटेल चेन और ई-कॉमर्स से बच पाए है बल्कि उनके सामने कुशल भी हुए है । सभी फैक्टर्स में से जो किराना स्टोर्स को एवरग्रीन रखते हैं, उनमें से सबसे जरूरी हैं:

  • स्टोर तक पहुंचने में आसानी। यदि यह पड़ोस में स्थित होगा, तो वहा तक पहुंचने में आसानी होगी।
  • किराना स्टोर्स में, अपने ग्राहकों को जरूरी सामान प्रदान करने की क्षमता होनी चाहिए। यह बहुत अद्भुत है कि रिटेलर हमेशा कैसे जान जाते है की उनके ग्राहकों को क्या चाहिए।
  • लोकल प्रोड्यूस की मौजूदगी बरकरार रखना । सबसे ज्यादा पसंद करे जाने वाले प्रोडक्ट्स में से अचार, बैटर्स और रेडी-मिक्स पाउडर का सुपरमार्केट की तुलना में एक किराना स्टोर पर पाए जाने की संभावना ज्यादा होती है।
  • फुर्त और फ्लैक्सिबल होना – कई तरह के लोकल प्रोड्यूस बेचने के अलावा किराना स्टोर आमतौर पर फ्री डिलिवरी तक करवाते है, वह भी एक घंटे से भी कम समय में। रोज़ के ग्राहकों के लिए यह आसान क्रेडिट की सुविधा भी देते है।

किराना स्टोर – एक बिजनेस के रूप में 

हालांकि, एक किराना स्टोर बिजनेस में काफी चुनौतियों मौजूद है, पर भारतीयों की बढ़ती खर्चने की क्षमता, किराने की दुकान को एक महान बिजनेस आइडिया बनाती है। हर क्षेत्र में एक से बढ़कर एक किराना स्टोर हैं। 

भारत में जनसंख्या और डिमांड को देखते हुए, एक किराना स्टोर एक प्रैक्टिकल बिजनेस आइडिया मालूम होता है । हालांकि, बिजनेस में केवल इन्वेस्टिंग पूरी कहानी नहीं । स्टोर को तब तक बरकरार रखना होगा जब तक वह मुनाफा देने के लायक नहीं हो जाए। आपको हर एक कदम सावधानी से लेकर आगे बढ़ना चाहिए।

प्रॉफिटेबल बिजनेस मॉडल?

हम सभी जानते हैं कि किराने का सामान कितना जरूरी है । लॉकडाउन ने एक बार फिर इस बात को स्पष्ट किया है कि किराने का सामान हमारे रोज़ की जरूरतों को पूरा करता हैं । यह एक ऐसी चीज़ है जो कभी भी अनावश्यक नहीं होगी । और यह इकलौता कारण हमें भरोसा दिलाता है कि हम इसे एक अच्छे और प्रैक्टिकल बिजनेस आइडिया के रूप में देख सकते है । इसलिए, एक किराना स्टोर शुरू करना भारत में निश्चित रूप से, सभी प्रॉफिटेबल बिजनेस में से एक है। एक साधारण किराना स्टोर का प्रॉफिट मार्जिन 5% से लेकर 20% तक होता है ।  जबकि एक स्वतंत्र किराना स्टोर 1-4% का मार्जिन कमाता है और एक बड़ी किराना की दुकान 5% से भी ऊपर बनाती हैं। यह भी प्रॉफिटेबल है क्योंकि एक किराना दुकान खोलने में भारी इन्वेस्टमेंट शामिल नहीं होता।

किराना स्टोर खोलने के लिए कितने पैसे की जरूरत होती है?

5 लाख रुपये – 15 लाख रुपये। इतना इन्वेस्टमेंट में,

कम से कम खर्चा होगा, जो एक किराना स्टोर को खोलने और चलाने में शामिल सभी खर्चों को ध्यान में रखते हुए दिया गया है । खर्चा इस से ज्यादा नहीं जा सकता जब तक आप एक डिपार्टमेंटल स्टोर या एक सुपरमार्केट खोलना नही चाहते हैं । आजकल बिजनेस लोन आसानी से उपलब्ध है और अच्छे ऑफर्स के साथ मिल रहे हैं। इसलिए, यदि आप एक किराना स्टोर के मालिक का सपना देख रहे हैं, तो आप विस्तार से खर्च और मुनाफे को परख कर,  आगे बढ़ सकते है।

किसी स्टोर को खरीदने/किराए पर लेने का खर्चा

अपने किराना स्टोर को शुरू करने के लिए एक दुकान का किराया 10,000 से 1 लाख तक हो सकता है जो इसके फ्लोर साइज, इलाके और मकान मालिक द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं पर निर्भर करता है। यदि आप एक दुकान खरीदना चाहते है तो इलाके के हिसाब से 25-60 लाख के बीच, 500 sq.ft. की दुकान पर खर्चा हो सकता है।

परमिट लेने का खर्चा

भारत में एक किराना स्टोर के मालिक के रूप में, आपको आवश्यक बिजनेस लाइसेंस लेने होंगे, यह निश्चित करने के लिए कि आपका स्टोर सभी नियमों का पालन करता है। इस कारोबार को लोकल नगर निगम अथॉरिटी द्वारा अप्रूव किया जाना चाहिए । अगर डॉक्यूमेंट्स में कोई समस्या न हो तो, लाइसेंस लेने की प्रक्रिया 8 दिनों के अंदर पूरी हो जाती है । यदि स्टोर मालिक किसी भी कानूनी शर्तों का उल्लंघन करते है तो अथॉरिटी लाइसेंस कैंसल या रद्द भी कर सकती हैं।

स्टोर को डिजाइन करने का खर्चा

डिस्प्ले रैक्स, फिक्सचर्स और काउंटर के साथ अपने किराना स्टोर को डिजाइन करने में आपको कहीं 70,000 रुपये से 3 लाख रुपये के बीच खर्च होगा।

ऐसे ब्रांड की तलाश करें जो आपके किराना स्टोर की जरूरतों को समझें। एक किराना स्टोर के लिए न सिर्फ ग्राहकों को आकर्षित करना बल्कि स्टोर में उनका आना–जाना बरकरार रखना भी मायने रखता है। आपको एक ऐसे सप्लायर की जरूरत है जिसके पास फ्लेक्सिबल फिक्सचर्स हो, जिन्हें आपके किराना स्टोर स्पेस के हिसाब से बदला जा सकता है।

अधिकतम प्रोडक्ट डिस्प्ले के लिए अपने स्टोर को इस तरह से डिजाइन करने पे ध्यान दे की ग्राहक बिना किसी दिक्कत के प्रोडक्ट्स और ऑफर्स का सही डिस्प्ले देख सकें। टिकाऊ, मजबूत, साथ ही आसानी से बदले जाने वाले रैक्स और फिक्सचर्स ढूंढे ।

इनस्टोर छोटे फॉर्मेट के किराना स्टोर्स को डिजाइन करने में माहिर रहा हैं। इसके फिक्सचर्स और डिजाइन बहुत अच्छी एस्थेटिक वैल्यू प्रदान करते हैं, स्टोर की स्पेस का अच्छे से उपयोग करते है, और इन-स्टोर कस्टमर फ्लो भी बढ़ाते हैं।

डिस्प्ले रैक्स और शेल्विंग रैक्स से लेकर स्टोरेज यूनिट्स और कैश काउंटर तक, इनस्टोर आपके स्टोर को अनोखा और शॉपिंग – फ्रेंडली बनाता है और आपको इन्वेस्टमेंट पर अच्छा रिटर्न भी देता है।

स्टॉक खरीदने का खर्चा

स्टॉक खरीदना और स्टॉक रोटेशन सबसे जरूरी हिस्सा है क्योंकि ये ही आपके किराना स्टोर बिजनेस के प्रोडक्ट्स हैं। आपको विश्वसनीय डिलीवरी और ग्राहक सेवा के साथ, क्वॉलिटी सप्लायर से स्टॉक प्राप्त करके अपने ग्राहकों के लिए सबसे अच्छा माल लाना होगा। 

सही ढंग से, आपके पास लगभग 2 हफ्ते का इन्वेंट्री कवर होना चाहिए। आप बल्क में कुछ टिकाऊ FMCG प्रोडक्ट्स खरीद सकते हैं, जैसे टूथपेस्ट, साबुन, डिटर्जेंट, कॉस्मेटिक्स, आदि। 

बल्क ऑर्डर आपको बेहतर प्रॉफिट मार्जिन देते हैं।  Metro, Reliance, ITC, Dabur, Hindustan Unilever, Nestle, और Britannia जैसे बड़े फॉर्मेट के होलसेलर्स के साथ अपने किराना स्टोर को रजिस्टर करें। उनके प्रोडक्ट्स भारतीय बाजारों में अच्छा कर रहे हैं, इसलिए आपको बल्क खरीद पर अच्छे सौदे मिलेंगे, कभी-कभी होलसेलर्स से भी बेहतर।

बिजनेस ऑपरेशन में खर्चा

बिजनेस ऑपरेशन में यह खर्चे शामिल हैं:

  • स्टाफ की सैलरी
  • बिजली का बिल
  • फोन और इंटरनेट बिल
  • मिसलेनियस पेमेंट
  • स्टोरेज, मेंटेनेंस और सफाई का खर्चा
  • खरीदने और पेमेंट रखने के तरीको को अपडेट करना
  • एक बार के खर्च जैसे मेजरमेंट टूल्स
  • एडवांस पेमेंट
  • कस्टमर क्रेडिट
  • बैकअप के लिए रिजर्व फंड

यहां एक किराना स्टोर बिजनेस में प्रॉफिट बढ़ाने के लिए 3 क्विक टिप्स दिए गए हैं:

  • डेयरी प्रोडक्ट्स आपको सबसे ज्यादा मार्जिन देते हैं, 20% तक। केवल एक चीज है, वे पेरिशेबल हैं, इसलिए उन्हें अच्छी तरह से रखे और उन्हें तेजी से बेचे।
  • ग्राहक सेवा को बढ़ाए, ऑर्डर से पेमेंट करने तक, और आफ्टर सेल्स सर्विस भी दे । ग्राहक इज्जत वाले व्यवहार की तरफ आकर्षित हो जाते हैं । इस पे अपने स्टाफ को ट्रेन करें।
  • अपने किराना स्टोर को ऑनलाइन लाएं। लोगों को घर से ऑर्डर करना और डिलीवर करवाना आसान लगता है। उसे प्रोवाइड कराएं। एक अध्ययन में पाया गया कि भारत में 170 मिलियन लोगों का 2022 में ऑनलाइन खरीदारी करने की उम्मीद है । क्या आपको मनाने के लिए इतना काफी नहीं है?

किराना स्टोर अभी भी प्रसिद्ध हैं और कभी भी जल्द ही नहीं जायेंगे। अभी, पूरे भारत में 12 मिलियन से अधिक किराना स्टोर्स हैं। इस तरह के कंपटीशन के बावजूद, एक किराना स्टोर आपके लिए प्रॉफिटेबल हो सकता है, बस शर्त है कि आप धैर्य और मेहनत के साथ, एक बार में एक कदम उठाने के लिए तैयार हों।

Please fill-in the details to download the comparison chart.